My Cart -

0 item

My Cart -

0 item

Memory - P Plus

    • Delivery is available in your area.
    • Delivery is not available in your area.
    • Please enter a ZIP code.
    • There was a problem while checking for COD availability. Please try again after some time.

Check AvailabilityPlease check pincode availability

Special Price Rs.647.00 Regular Price: Rs.1,499.00

Availability: In stock

Highlights

मेमोरी - पी प्लस 100 प्रतिशत शुद्ध प्राकृतिक एसेंसियल ऑयल जैसे रोजमेरी, बेसील, रोमन, चमेली, इलाइची, जिरेनियम, बरगामोट, लेमन, लौंग- लौंग, पेपरमिंन्ट, जैसमिन, पामरोजा और कारियन्डर जैसे एसेंसियल ऑयल को संतुलित मात्रा में मिलाया हुआ एक उत्कृष्ट मिश्रण है
Qty:

100% Purchase Protection
Original Product / Secure Payments


Share
Whatsapp Facebook Twitter Pinterest Google Plus
मेमोरी - पी प्लस 100 प्रतिशत शुद्ध प्राकृतिक एसेंसियल ऑयल जैसे रोजमेरी, बेसील, रोमन, चमेली, इलाइची, जिरेनियम, बरगामोट, लेमन, लौंग- लौंग, पेपरमिंन्ट, जैसमिन, पामरोजा और कारियन्डर जैसे एसेंसियल ऑयल को संतुलित मात्रा में मिलाया हुआ एक उत्कृष्ट मिश्रण है | यह प्रोडक्ट हमारी मेमोरी या याददाश्त को बढाने के लिए है | परन्तु उसके लिए हमें ना ही इसे खाने के जरुरत है और ना ही कही लगाने की | मेमोरी - पी प्लस एक सुगन्ध चिकित्सा (Aroma Therapy) है यह सिर्फ सूंघने मात्र से ही हमारे मस्तिस्क में उपलब्ध स्मृति ग्रन्थियों (Memory Receptors) को जागृत (activate) कर देती है, जिससे हमें कोई भी चीज ज्यादा जल्दी याद तो होती ही है साथ ही साथ सिर्फ इसे सुधनें मात्र से हमें पहले याद स्मृतियों की पुनः प्राप्ति भी होती है| जब प्रतिदिन बड़ी संख्या में मस्तिष्क विचारों को संग्रहित करता है तो यह देखा गया है कि पुनः उन विचारों या जानकारियों को याद करने में हमें संघर्ष करना पड़ता है, लेकिन जब आप उन विचारों से जुड़ी परिचित सुगंध के संपर्क में आते हैं तब चेतना पूर्ण रूप से सक्रिय रहती है.ऐसा इसलिए है क्योंकि मस्तिष्क के वे हिस्से जो गंध और स्मृति को संसाधित करते हैं, आपस में निकटता से जुड़े होते हैं और सुगंध का उपयोग करके आप हिप्पोकैम्पस को उत्तेजित कर सकते हैं. जो तथ्य (सिमेंटिक मेमोरी) और घटनाओं (एपिसोडिक मेमोरी) के भंडारण से जुड़ा हुआ है | यह तो हम सभी जानते ही है की खुशबु हमारे मस्तिष्क और विचारों को बहुत प्रभावित करती है| जहाँ अलग-अलग खुशबु से हमें रोमान्टिक , आध्यात्मिक और प्रेरणात्मक भावनाओ का सृजन एवं अनुभूति हमारे मस्तिष्क में होती है, वही अगर हम किसी बुरी गंध के संपर्क में आते है तो हमें असहजता एवं डर जैसे भावनाओ की अनुभूति होती है| इससे यह बात पूरी तरह साबित हो जाती है की अलग-अलग खुशबु हमारे मस्तिष्क को अलग-अलग तरह से प्रभावित करती है| कई बार आपने यह अनुभव किया होगा की आप घर के एक कमरे में बैठ कर दुसरे कमरे में रखी किसी वस्तु को याद करते है लेकिन जैसे ही आप दुसरे कमरे में पहुँचते है आप पूरी तरह भूल चुके होते है की आप वहां क्या लेने आये थे पर जैसे ही आप पुनः अपने पहले कमरे में पहुचते है जहाँ आपने उस वस्तु के बारे में सोचा था आपको शीघ्र सब कुछ याद आ जाता है, यह संदर्भ पुनःप्राप्ति का एक आदर्श उदाहरण है | अगर आपके घर में कोई बच्चा है जिसे होमवर्क याद करने में समस्या आती हो या याद होते हुए भी परीक्षा के वक्त भूल जाता हो तो आप श्री च्यवन द्वारा प्रस्तुत मेमोरी - पी प्लस को अपने घर में एक स्थान जरुर दें | आप इसके परिणाम से बहुत संतुष्ट होंगे | मेमोरी - पी प्लस का इस्तेमाल आप किसी मीटिंग, या कॉम्पटीशन में जाते समय भी कर सकते है, यह आपकी याददाश्त क्षमता को बढाता ही है और साथ ही साथ आपको मेंटली अलर्ट (Mentally Alert) भी रखता है, यह आपके स्ट्रेस लेवल एवं घबराहट को भी कम करने में आपकी मदद करता है | इसका इस्तेमाल किसी भी उम्र के बच्चे, नवयुवक, व्यापारी, बुजुर्ग एवं गृहणिया अपने मानसिक स्तर को दुरुस्त रखने के लिए कर सकते है | लिम्बिक प्रणाली क्या है ? और सुगंध चिकित्सा इस पर कैसे प्रभाव डालती है :- लिम्बिक प्रणाली मानव मस्तिष्क में अतिसुंदर परिपथ है. यह मस्तिष्क में संरचनाओं द्वारा नियमित मनोवैज्ञानिक पहलुओं का प्रमुख कारक है. इससे मस्तिष्क संज्ञानात्मक एवं भावनात्मक प्रतिक्रियाओं के संगठन में पूर्णतः सक्रिय एवं प्रभावी होता है | वैज्ञानिक अध्ययनों से पता चलता है की सुगंध चिकित्सा किस प्रकार हमारे मेमोरी और एकाग्रता को प्रभावित करती है " एरोमाथैरेपी का विज्ञान: मस्तिष्क से व्यवहार के लिए"। शरीर और मन पर एयरोमैथेरेपी के प्रभावों की जांच करने वाले वर्तमान वैज्ञानिक अनुसंधान, और यह कैसे हमारे दिमाग और शरीर पर प्रभाव डालता है, और किस प्रकार हमें अनिद्रा, चिंता, अवसाद, तनाव या यहां तक की पुराने दर्द में भी लाभ होता है | गंध की सेंस, या जिसे वैज्ञानिक दुनिया में अल्फ़िकेशन के नाम से जाना जाता है, अपने न्यूरोसाइकिट्रि में काफी अद्वितीय है। गंधक अणुओं को घ्राण कोशिकाओं पर विशेष घ्राण रिसेप्टर्स के लिए बाध्य करके शुरू होता है, जो लाखों में होते हैं परन्तु दिलचस्प बात यह है कि गंध के विभिन्न संयोजनों के बावजूद मनुष्य केवल 400 अद्वितीय घ्राण ग्रहणशील प्रकारों को कूटबद्ध कर सकता है। आप शायद सोच रहे हैं, फिर, यह कैसे संभव है। गंध विभिन्न घ्राण रिसेप्टर न्यूरॉन्स का एक संयोजन सक्रिय कोड हैं | इसलिए जब आप पेपरमिंट एसेंशियल ऑयल की तेज गंध और स्फूर्तिदायक गंध को सूंघते हैं, तो कई अलग-अलग प्रकार के अल्फैक्ट रिसेप्टर न्यूरॉन्स एक जटिल कोड बनाने के लिए फायरिंग करते हैं जो घ्राण तंत्रिका के माध्यम से घ्राण बल्ब को भेजा जाता है। घ्राण बल्ब से जानकारी को घ्राण पथ के माध्यम से पिरिफॉर्म कॉर्टेक्स, एमिग्डाला, हाइपोथैलेमस, हिप्पोकैम्पस और अन्य लिम्बिक प्रणाली संरचनाओं में स्थानांतरित किया जाता है। यह घ्राण प्रणाली और दिमाग के लिम्बिक प्रणाली के बीच संरचनात्मक संबंध बनाता है |

How do you rate this product?

 1 star2 stars3 stars4 stars5 stars
Value
Quality
Price

Write your own review

colorNo
sizeNo
Loading...
Please wait...